शुक्रवार, 15 जून 2012

मैं चाँद हूँ ...









मैं चाँद हूँ , जो रात को आती हूँ ....
तुम सूरज हो ..जब थक कर सो जाते हो ...

मैं मेध हूँ , जो बारिश लेकर आती हूँ ....
तुम तपन हो ..तब अपनी प्यास पूछते हो ....

मैं वीणा हूँ , तेरे नाम का गीत गाती हूँ ..
तुम पवन हो .. बस गुनगुना कर चले जाते हो ...

मैं सांस हूँ , तेरे दिल में धडकती हूँ ...
तुम पत्थर हो..यु ही ठुकराकर चले जाते हो ....





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें