मंगलवार, 17 अप्रैल 2012

कहानी " मोहभंग "

.







"क्या आप मुझे जानते हैं " ?
"नहीं "?
"क्या मैं आपको  जानती हूँ "?
"पता नहीं " उसने कहा |
"फिर ?"
"आपसे दोस्ती करना चाहता हूँ " उसने कहा |
"क्यों " मैने पूछा  |
"बस यू ही" 
 अजीब आदमी हैं, दोस्ती ऐसे मांग रहा हैं..जैसे परचुने की दूकान पर नमक खरीद रहा हो..दोस्ती नहीं हुई कोई वस्तु हो गई हो की दाम दो और लो ? जैसे मैं उधार ही बैठी हूँ दोस्ती करने को ..' ऊंह..हूँ' .. मैने सोचा --मैं ऐसे नेट प्रेमियों को अच्छी तरह से जानती हूँ जो लडकियों को देखकर लार टपकाते रहते हैं ..मुझे ऐसे मंजनू  बिलकुल पसंद नहीं ???
  
    मैं २३ साल की एक खुबसुरत लडकी हूँ ..ऍम.बी.ऐ.( f ) की स्टुडेंट हूँ ..अक्सर नेट पर अपना प्रोजेक्ट बनाती रहती  हूँ ..कभी -कभी चेटिंग भी कर लेती हूँ..सिर्फ अपने दोस्तों से जिनको मैं जानती हूँ .जो मेरे साथ पढ़ते हैं, ..अनजान लोगो को मुंह नही लगाती ?

उस दिन 'उसका 'अचानक से आया रिक्वेस्ट मैं भूल चुकी थी --पर शायद वो नहीं भुला था | २-३ दिन बाद उसने फिर रिक्वेस्ट भेज दी --मैने फिर टाल दिया ,पर ज्यादा दिन मैं उसे नही टाल सकी --मुझे उसको एक्सेप्ट करना ही पड़ा --

धीरे -धीरे मैं  उससे चेटिंग करने लगी --वह बहुत दिलचस्प इंसान था --उसकी बाते मुझे बहुत अच्छी लगती थी --उससे बात करके मैं 'फ्रेश' हो जाया करती थी | वह बहुत अजीब आदमी था ,दोस्तों पर जान  देता था --जिंदादिल था ! रोतो को हंसा दे ,उसमें वो हुनर था .|.उसको अपने दोस्तों की कई कविताए मुंह जवानी याद थी --जिन्हे वो अक्सर मुझे सुनाया करता था --कभी-कभी मैं बोर हो जाती थी, पर उससे कुछ नहीं कहती  --कभी -कभी वो थर्ड क्लास बाते करता था जो मुझे पसंद नहीं थी-- लेकिन मेरे मना करने पर वो बंद भी कर देता था --उसकी यही अदा मुझे पसंद थी ...| और मैं उसपर मरती थी ?
वो दोस्तों का दीवाना था ..मेरा नहीं ? मैं; जिस पर सारा जहाँ फ़िदा था --मेरी एक झलक देखने को लोग उतावले रहते थे --? मुझसे दोस्ती करने को कई लडके कतार में खड़े रहते थे --? पर मैं किसी को भाव नही देती थी --मैं तो सिर्फ उसकी दीवानी थी --लेकिन, उसको मेरी परवाह ही नही थी --वह  तो बस बातो का राजा था !

कभी -कभी लगता था की क्या उसने मुझसे सिर्फ बातो के लिए ही दोस्ती की हैं ? या अपना टाइम -पास करने के लिए ? तब मन बहुत उदास हो जाता था ,कई बार मैं उससे नाराज हो जाती --फोन करना बंद कर देती --चेटिंग नहीं करती, उसको ताने देती,झगड़ा करती; तब वो परेशांन  हो जाता ! माफ़ी मांगता! आगे से ऐसा नहीं होगा कहता; मैं अक्सर उसको माफ़ कर देती क्योकि मै खुद उसके बगैर रह नही पाती थी | लेकिन वो अपनी आदत से मजबूर था --कुछ दिन ठीक चलता फिर वही हरकते शुरू हो जाती जो मुझे पसंद  नहीं थी |

वो एक सरकारी संस्था में नौकरी करता था ..बहुत व्यस्त रहता था ..मैने उसको तस्वीरों में देखा था --ठीक - ठाक ही लगता था --न बहुत सुंदर न भद्दा --उसके बारे में ज्यादा जानती नही थी --वैसे मुझे भी परवाह नही थी --मेरी सगाई हो चुकी थी --कुछ दिनों बाद  मेरी शादी होने वाली थी --मेरे होने वाले पति बहुत अच्छे थे -- मैं उनसे संतुष्ट थी ..वो मुझे बहुत प्यार करते थे ..मेरी हर बात मनते थे ..
पर अचानक इसके आने से सब गड़बड़ हो गई --शायद मैं  उससे प्यार करने लगी थी,पर वो मुझसे प्यार नहीं करता था ? जब भी मैं उससे पूछती --तो वो बहाने बनाने लग जाता था---"प्यार क्या होता हैं ?" वह अक्सर पूछता था? और मैं निढाल- सी कुछ कह नहीं पाती थी --कैसे उसको अपनी भावनाए समझाऊ --शायद वो समझकर  भी नासमझ बनता था--

    पर यह पक्का था की मैं उससे प्यार करने लगी थी ! मुझे हरदम उसकी याद आती थी-- भूख खत्म हो गई थी --जिस दिन उसका फोन नहीं आता तो मन बैचेन रहता था, पर वो मस्त रहता --मैं गुस्सा होती और वो हंसता --मुझे कविताए सुनाता हमेशा कहता --"लाइफ को इन्जाय करो " पर उसके बगैर मेरी लाइफ सूनी थी मैं कैसे उसे समझाती ? मैं सम्पूर्ण रूप से उसके मोहपाश में बंध चुकी थी ----?

हम कभी मिले नहीं थे --न हमने कभी एक दुसरे को देखा था --वो असल में कैसा होगा ! मैने कभी सोचा ही  नही था ! वो कैसा भी  हो ; मैरे मन ने उसे स्वीकार कर लिया था --हम काफी करीब आ चुके थे ! बहुत सी बाते जो सिर्फ पति -पत्नी ही करते हैं हम एक दुसरे से अक्सर करते रहते थे --कई बार उसकी कुछ अनगर्ल बाते मुझे पसंद नही आती थी पर अनमने भाव से मैं सुनती थी -- और वो समझता था की मुझे ऐसी ही बाते पसंद हैं -- वो दुने जोश से करता था -- कई बार मना भी कर देती थी जिसे वो एक अच्छे बच्चे की तरह मान भी जाता था-- वादा करता था की आगे से कभी नही करूँगा ?पर जल्दी ही भूल जाता था -- फिर वही बातो का लम्बा सिलसिला -- कविताओं का न खत्म होने वाला राग ! पर मुझे उसकी हर चीज़ पसंद थी---?

मैं चाहती थी की वो रोमांटिक बाते करे ; मुझसे प्यार भरी मिठ्ठी बाते करे ? पर शायद वो यह करना जानता ही नहीं था --ज्यादा जोर देती तो वो मुझसे बात करना ही छोड़ देता , तब न फोन करता न एस. ऍम. एस. करता --अक्सर कह्ता-- "व्यस्त हूँ ?"

जीवन यू ही गुजरता रहा ---मै जहां भी जाती उसको अपने सामने पाती --अपने होने की एक -एक पल की खबर उसको देती--पर मानो उसे मेरे प्यार में रूचि थी ही नहीं --जब उसकी इच्छा होती बात करता --जब इच्छा  होती मेसेज करता; मेरी भावनाओ की उसको कोई कद्र ही नही थी? कई बार सोचा उसे छोड़ दू --फिर डर जाती --कैसे रहूंगी उसके  बगैर --?

 एक बार तो उसे F.B. से निकलने को कह भी दिया और वो तुरंत तैयार भी हो गया --और निकल भी गया---मानो कुछ  हुआ ही नही हो ? पर लाख कोशिश के बावजूद  भी मैं उसे दिल से निकाल नही सकी --पता नही किस मिटटी का बना हुआ था ? सीने में दिल ही नही था उसके ? यदि था भी तो मेरे लिए धडकता  नही था ?
उसको निकलने का बोल तो दिया ,पर इस गुनाह की सज़ा मैने  ही पाई --उसके न रहने से जो स्थान रिक्त हुआ --वो मुझसे देखा नही गया --मैं विचलित हो गई ---उसको देखे बगैर मैं रह ही नही सकती थी --एक दिन भी निकालना मुश्किल हो गया --आखिर तंग होकर मैने उससे कहा --"प्लीज ,मुझसे बाते करो , मैं पागल हो जाउंगी "? उसने तुरंत जवाब दिया --" I love you"  !मेरा सम्पूर्ण व्यक्तित्व खिल गया --आँखों से आंसू बह निकले --ऐसा लगा मानो -कण -कण जीवित हो उठा हो ! वो भी मुझे प्यार करता हैं ? मन मयूर नाच उठा --तन मन में तरंगे दौड़ने लगी --एक सम्पूर्णता से मेरी बगिया खिल उठी ...
   

ऐसे  ही समय दौड़ता रहा --हम बहुत नजदीक आ गए थे -- मै  उससे  शादी करना चाहती थी ,पर वो हमेशा मुझे   टाल  देता था -- एक दिन मैने उससे जबरदस्ती की तो अचानक वह बोला--मैं शादीशुदा हूँ ? एक साथ दो औरतो से प्यार नहीं कर सकता ? " धडाम "--- मैं धरा पर आ गिरी ?

वो मुझसे प्यार नही करता था ?शायद वो अपनी पत्नी से  बहुत प्यार करता था --? उसने सिर्फ मुझसे दोस्ती की थी---सिर्फ दोस्ती ???

उसने कभी मुझसे कोई वादा  नही किया ? न मिलने की कोशिश की --शायद वो बिना देखे मेरे इस अंधे प्यार को स्वीकार ही नहीं कर पा रहा होगा -- ? कैसे कोई बिना देखे किसी को प्यार कर सकता हैं ?यही सोचता   होगा --पर मैने उसको सच्चे दिल से प्यार किया था ???


आजतक उसको भुला नही पाई हूँ --वह मेरा पहला प्यार था जिसे भुलाना नामुमकिन ही नही असम्भव था --मेरी यही भूल थी की मैने उसको प्यार किया ? और उसकी यह की उसने मुझसे दोस्ती की--पर मैं दोस्ती कर नही सकी ---????

"परछाई के पीछे भागने वाले ओढ़े मुंह गिरते हैं न "

         काश,उस दिन तुम मिले ही नहीं होते ??? 



1 टिप्पणी:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं